कोरोना का सबसे बड़ा सबक

#कोरोना का सबसे बड़ा सबक


#सचिन_अग्रवाल जी की एक छोटी सी फ़ैक्टरी थी, जिसमे वो मास्क सर्जिकल ग्लोवस के 50000 पीस का उत्पादन करते थे उनके बनाए पीस की लागत 20 रूपये आती थी, जिसे वो 25 रुपए मे बेचते थे और करीब 25 लोगो को रोजगार देते थे ऐसी ही एक फ़ैक्टरी #डेविड की अमेरिका मे थी, जिसमे वो 1 लाख पीस बना लेता था, उसकी लागत $0.45 प्रति पीस या 30 रूपये की थी #डेविड अमेरिका मे 10 लोगो को रोजगार देता था ऐसी छोटी छोटी अनेक फ़ैक्टरिया विश्व के अनेक हिस्सो मे थी, जो हजारो लोगो को रोजगारी देती थी!
.


पर फिर एक दिन चीन मे #झिंगझांग नाम की एक व्यक्ति ने, चीन की सरकार की मदद से एक विश्व का सबसे बड़ा ऑटोमैटिक प्लांट लगाया जिनमे 80 मजदूरो के माध्यम से झिंगझांग एक महीने मे 50 लाख पीसो का उत्पादन करता था! सस्ती बिजली, सस्ते मजदूर, बड़ा प्लांट, सरकारी सब्सिडी की वजह से वह, 10 रुपए पीस मे मास्क बेचने लगा धीरे धीरे पूरे विश्व मे फ़ैक्टरिया बंद हो गयी हर कोई झिंगझांग से मास्क और ग्लोव खरीद कर बेचने लगा #अमेरिका मे #डेविड ने भी एक तरीका निकाला, वो बेचता तो अभी भी डेविड के नाम से ही था, पर वो उत्पादन झिंगझांग की फैक्ट्री से बनवा कर लेने लगा!
.


#भारत भी कैसे अछूता रहता कुछ ट्रैडर , इंपोर्टर चीन से माल लाने लगे और 15 रुपए मे हजारो मास्क बेचने लगे
15 रूपय का मास्क 5 रूपये मे लाकर #duty बचाते सख्ती बढ़ी तो #Traders ने मंत्रालय मे सेटिंग कर, मास्क और #gloves को जरूरी आइटम बता, उस पर आयात शुल्क भी ख़त्म करा लिया!


.
#सचिन_अग्रवाल तीन साल तक इससे लड़ते रहे, उन्होने अनेक चंबर ऑफ कॉमर्स के माध्यम से, एसोशिएशन के माध्यम से अपनी कहानी सरकारी अधिकारियों तक पहुचाई, पर हर जगह लालफीताशाही के चलते, उनकी कुछ नहीं सुनी गयी उनकी यूनिट का कम काम देख, बैंक ने भी ब्याज की दर बढ़ा दी और उन्हे परेशान करने लगे उधर सब डिपार्टमेंट को लगता था ये तो उधोगपति है, बहुत मोटा माल इसके पास है, थोड़ा हमे मिल जाएगा तो क्या घट जाएगा
.


भरपूर संघर्ष के बाद, 3-4 साल मे #सचिन जी इस सिस्टम से हार गए उनका बैंक लोन एनपीए हो गया बैंक ने उनकी संपत्ति फ़ैक्टरी नीलाम कर दी लोगो ने आरोप लगाया की #सचिन फ्राड है, बैंक के पैसे खा गया उनकी फ़ैक्टरी के मजदूर बेरोजगार हो गए, और एक ठेकेदार के अंडर मे, आधे पैसो पर दुगना काम करने लगे एक्साइज़, इंकम टैक्स , सेल्स टैक्स सबने लाखो के मुकदमे सचिन जी पर डाल दिये सचिन जी का मकान बिक गया, बुरा समय आने पर रिश्तेदारों ने मुह मोड लिया वो एक छोटी सी दुकान चलाते हुए, परिवार के साथ, दो कमरो के मकान मे जीवन व्यतीत करने लगे पर दुकान की बिक्री भी ऑनलाइन कम्पनियों के चलते नगण्य थी!
.
.
फिर एक दिन पूरी दुनिया मे #COVID19 नाम की महामारी फैली, इसकी शुरुआत #चीन से हुई चीन ने मास्क और ग्लवस के निर्यात पर पाबंदी लगा दी #डेविड की कंपनी हो या भारत के आयातक, सब बिना माल के बैठे थे चीन की स्थिति संभली तो उसने घटिया मास्क 100 रु पीस मे बेचने शुरू कर दिये पूरा विश्व मजबूर था, क्योंकि उनके पास कोई विकल्प नहीं था सचिन जी, एक हाथ मे मुकदमो का नोटिस और दूसरे हाथ मे अखबार मे इस महामारी के बारे मे पढ़ आँसू बहाते रहते थे आज उनकी छोटी सी फ़ैक्टरी चालू होती तो शायद वो अपने देश का स्वाभिमान न बिकने देते


यह मेरे द्वारा लिखी एक काल्पनिक कहानी है जिसका जीवित अथवा मृत किसी व्यक्ति से कोई संबंध नहीं है पर ध्यान रखे, जब हम कोई आयातित उत्पाद खरीदते है, तो रोज अनेक #सचिन को मारते है! संकल्प ले, अब हम किसी #सचिन को झुकने नहीं देंगेl


Popular posts
*बिग ब्रेकिंग संतकबीरनगर* जनपद संतकबीरनगर के धर्मसिंहवा में नकली मिठाइयों का जखीरा बरामद । उपभोक्ता की शिकायत पर की गई कार्रवाई । धर्मसिंहवा थाना अंतर्गत बिना लाइसेंस की चल रही थी नकली मिठाई की दुकान । नकली मिठाइयों का जखीरा बरामद । फूड इंस्पेक्टर राजमणि प्रजापति एवं थानाध्यक्ष की संयुक्त ऑपरेशन में बरामद किया गया नकली मिठाइयों का भंडार। मिठाइयों में दुर्गंध आ रही थी। संयुक्त ऑपरेशन टीम ने बरामद नकली खोया, पेठा, बर्फी, कलाकंद, मिल्क केक, आदि मिठाईयां बरामद की गई। बरामद की गई सभी मिठाईयां केमिकल से बनाई गई थी। सभी मिठाइयों में दुर्गंध आ रहा था। जो स्वास्थ्य के लिए बहुत ही हानिकारक है। मौके पर बरामद सभी मिठाइयों को फूड इंस्पेक्टर ने नष्ट करवाया। एवं आगे की कार्रवाई के लिए सैंपल गवर्नमेंट लैब में जांच के लिए भेजा जाएगा । अग्रिम कार्रवाई मिठाइयों के लैब टेस्ट रिपोर्ट आने के बाद खाद्य विभाग द्वारा की जाएगी।
Image
भोजपुरी गायक खेसारी लाल के कार्यक्रम में लोग हुए खून से लाल एवं हताहत एवं दर्जनों घायल
Image
*उमरिया प्रधानाचार्य तीन दिनों में प्रस्तुत करें शैक्षिक अहर्ता प्रमाण पत्र: डीआईओएस* -जिला विद्यालय निरीक्षक के पत्र से मचा हड़कम्प, जबाब देना हुआ मुश्किल ◼️◼️◼️ धनघटा(सन्तकबीरनगर) वरिष्ठता को दरकिनार कर कनिष्ठ व्यक्ति को पदभार दिए जाने को लेकर उमरिया बाजार इंटर कालेज ,उमरिया बाजार में प्रधानाचार्य पद का मामला गहराता जा रहा है। जिला विद्यालय निरीक्षक गिरीश कुमार सिंह ने प्रधानाचार्य को नोटिस भेजकर तीन दिनों के अंदर प्रधानाध्यापक की अहर्ता से सम्बंधित समस्त शैक्षिक प्रमाण पत्र प्रस्तुत करने का फरमान जारी किया है, जिससे विद्यालय में हड़कंप मच गया है। बतातें चले कि विद्यालय में उमरिया बाजार इंटर कालेज में 31 मार्च 2020 को प्रधानाचार्य जय चन्द्र यादव के सेवानिवृत्त से रिक्त पद पर नियमानुसार विद्यालय के वरिष्ठ व अहर्ताधारी शिक्षक लाल चन्द्र यादव को तदर्थ प्रधानाचार्य का पदभार दिया जाना चाहिए था, किन्तु प्रबन्धक ने तथ्य गोपन व मनमानी करके कनिष्ठ शिक्षक राधेश्याम यादव को पदभार दे दिया, जिसको मान्यता देते हुए जिला विद्यालय निरीक्षक ने हस्ताक्षर भी प्रमाणित कर दिया। मामले की शिकायत छपरा निवासी सतेंद्र कुमार यादव ने जिला विद्यालय निरीक्षक से किया था। शिकायती पत्र में साक्ष्य के साथ अवगत कराया गया है कि प्रधानाचार्य स्नातक प्रथम वर्ष व बॉम्बे आर्ट का प्रशिक्षण संस्थागत छात्र के रूप में एक ही शैक्षिक सत्र वर्ष 1983 में हासिल किया है, जो विभागीय नियमों के विपरीत है। वे इंटरमीडिएट एजुकेशन एक्ट के अनुसार प्रधानाचार्य पद की निर्धारित अहर्ता भी पूरी नही करते हैं, अर्थात बीएड प्रशिक्षित भी नही है। वे प्रबन्धक द्वारा जारी विद्यालय की जेष्ठता सूची, जिसे संयुक्त शिक्षा निदेशक ने भी प्रमाणिक माना है, के अनुसार भी वरिष्ठ नही है। शिक्षक संघ के वरिष्ठ पदाधिकारी व उमरिया इंटर कालेज के पूर्व प्रधानाचार्य पारसनाथ यादव, जय चन्द्र यादव ने भी कहा है कि प्रधानाचार्य का पद वरिष्ठ व योग्य शिक्षक को दिया जाना चाहिए, जिला विद्यालय निरीक्षक का निर्णय स्वागत योग्य हैं। *किसी भी शिक्षक के साथ अन्याय नही होने देंगे: संजय द्विवेदी* ◾◾◾ सन्तकबीरनगर। प्रकरण के वावत पूछने पर उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ के मण्डलीय मंत्री संजय द्विवेदी ने कहा कि नियमानुसार वरिष्ठ व अहर्ताधारी शिक्षक को ही प्रधानाचार्य का पदभार दिया जाना चाहिए था, किन्तु ऐसा किया नही गया। हम जनपद में किसी भी शिक्षक के साथ अन्याय नही होने देंगे। प्रधानाचार्य का पदभार उसी को मिलेगा, जिसका हक होगा।
Image
जिलाधिकारी दिव्या मित्तल ने जनपद में ईंट भट्टों के संचालन पर विनिमय शुल्क वसूल कराए जाने के संबंध में निदेशक, भूतत्व एवं खनिकर्म निदेशालय, उत्तर प्रदेश के द्वारा जारी निर्देशों का हवाला देते हुए बताया है कि जनपद के अधिकांश ईट भट्ठा मालिकों द्वारा विनिमय शुल्क जमा नहीं किए जाने से शासन को प्राप्त होने वाली राजस्व प्रभावित हुई है। उल्लेखनीय है कि ईट भट्ठा सत्र 2020-21 माह अक्टूबर से प्रारंभ होगा जिसके अंतर्गत जनपद में विभिन्न श्रेणी के साधारण भट्ठे तथा जिग जैग भट्ठे संचालित होंगे । जिलाधिकारी ने जनपद के समस्त ईट भट्ठा मालिकों के सूचनार्थ बताया है कि पूर्व की समस्त बकाया धनराशि जमा करने के उपरांत ही भट्ठा सत्र 2020-21 में ईंट भट्ठे के संचालन की अनुमति प्रदान की जाएगी । यदि कोई भट्ठा स्वामी द्वारा बिना पूर्व की समस्त बकाया धनराशि जमा किए बिना ईट भट्ठा संचालित करते हुए पाया गया तो उसके विरुद्ध नियमानुसार कार्यवाही की जाएगी।
Image
ब्लाक प्रमुख मंटू सिंह अपनी फॉर्च्यूनर गाड़ी से लाकडाउन में करवा रहा था अंग्रेजी शराब की अवैध तस्करी#जनपद देवरिया
Image