मुख्यमंत्री का शहर जनपद गोरखपुर # दबंगअधीक्षक की दबंग कहानी#दलालों का अड्डा बना सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ठर्रापार घघसरा बाजार।

पी.के.सिंह  (राष्ट्रपति पुरस्कृत - वरिष्ठ पत्रकार ) /प्रभारी उत्तर प्रदेश @ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ठर्रापार बना दलालों का अड्डा। देश के सबसे बड़ा प्रदेश उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री माननीय श्री योगी आदित्यनाथ जी महाराज के गृह जनपद गोरखपुर के सहजनवा तहसील के अंतर्गत पाली ब्लॉक में चर्चित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ठर्रापार घघसरा बाजार स्वास्थ्य विभाग के दलालों का अड्डा बन चुका है। आपको बताते चलें कि विगत कई वर्षों से तैनात सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र अधीक्षक सी. पी. मिश्रा अपने तानाशाही के बल पर तैनात है। सरकारी स्वास्थ्य सेवाओं से लेकर प्राइवेट प्रैक्टिस का खेल जोरों पर चिकित्सा अधीक्षक के द्वारा किया जाता है। अस्पताल के बाहर 100 मीटर की दूरी के अंतर पर दर्जनों अवैध मेडिकल स्टोर एवं पैथोलॉजी सेंटर संचालित होते हैं अधीक्षक के  इशारे पर। इन पैथोलॉजीयों का 70% कमीशन सामुदायिक स्वास्थ्य अधीक्षक को जाता है। खुद अधीक्षक अस्पताल से 100 मीटर की दूरी पर प्राइवेट प्रैक्टिस करते नजर आते हैं। अस्पताल में मरीजों को देखने के बजाय पर्चे पर पर अपना नंबर लिखकर मरीजों को बताते हैं कि बाहर में बैठता हूं वहां पर आ जाना। वहां पर अच्छी दवा हो जाएगी अस्पताल में  अच्छी दवाइयां उपलब्ध नहीं है। अस्पताल की दवाइयों को मरीजों को नहीं दिया जाता है। धड़ल्ले से एक पर्ची में लिखकर मरीज को थमा दिया जाता है और बता दिया जाता है बाहर की मेडिकल स्टोर पर यह दवाई उपलब्ध है। कब तक चलता रहेगा ऐसा रामराज। जहां पर देश के प्रधानमंत्री ने कोविड-19 में डॉक्टरों को भगवान की संज्ञा देकर सम्मानित किया जा रहा है वहीं पर सामुदायिक स्वास्थ्य अधीक्षक सी पी मिश्रा के द्वारा ग्रामीण मरीजों को बेवकूफ बनाकर धन उगाही की जा रही है। गोरखपुर जनपद के ग्रामीण अंचल में बसा हुआ पाली ब्लॉक जहां पर बीजेपी के समर्थकों ने जोर शोर से अपना वोट देकर माननीय श्री योगी आदित्यनाथ जी महाराज को सुबे का मुख्यमंत्री बनाया है। वहीं पर शोषण के शिकार हो रहे हैं ग्रामीण पुरुष व महिलाएं। महिलाओं के टीकाकरण के नाम पर एवं टीकाकरण कार्ड बनवाने के नाम पर ₹500 लिए जा रहे हैं। पाली ब्लॉक की विभिन्न ग्राम सभाओं में समय से गर्भवती महिलाओं को टीका भी नहीं लगाया जाता है। भारत के प्रधानमंत्री की विशेष योजना जननी सुरक्षा योजना के नाम पर सामुदायिक₹1000 लिए जाते हैं। स्वास्थ्य केंद्र के कर्मचारियों का सबसे सटीक उत्तर देने का एक ही जवाब है कोविड-19 की व्यस्तता। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र अधीक्षक सी पी मिश्रा खुद ही शराब पीकर के मरीजों को देखने बैठता है। यदि आप अधीक्षक महोदय से किसी मैटर पर बात करना चाहते हैं तो आपको पुलिस का धौंस दिखाकर अस्पताल से बाहर कर देंगे। और बड़े-बड़े नेताओं एवं सफेदपोश और पारिवारिक पृष्ठभूमि बताकर आपको अस्पताल के अंदर बेजत करेंगे इसके बाद आपको अस्पताल से बाहर कर देंगे। यह है मुख्यमंत्री के गृह जनपद गोरखपुर के दबंग अधीक्षक की दबंगई। अधीक्षक सी.पी मिश्र अपने घर में दर्जनों पत्रकारों  होने की धमकी देकर ग्रामीणों को अपमानित करते नजर आते हैं। खुद भी अधीक्षक अपने चेंबर में दवा लिखने के लिए प्राइवेट आदमी को नियुक्त किया है। डॉ सीपी मिश्र दवा बोलते हैं और उनका प्राइवेट असिस्टेंट सरकारी अस्पताल में बैठकर दवा लिखता है। वरिष्ठ नागरिक एवं समाजसेवियों के द्वारा विश्वस्त सूत्रों से पता चला की डॉ सीपी मिश्र प्रतिदिन जब तक ₹10000 कमीशन मिल नहीं जाता है तब तक वह अपने घर गोरखपुर नहीं जाते हैं। यह हाल है उत्तर प्रदेश के माननीय मुख्यमंत्री महोदय का गृह जनपद गोरखपुर। जल्द ही स्टिंग ऑपरेशन की वीडियो एवं ऑडियो टेप का खुलासा किया जाएगा।


Popular posts
*बिग ब्रेकिंग संतकबीरनगर* जनपद संतकबीरनगर के धर्मसिंहवा में नकली मिठाइयों का जखीरा बरामद । उपभोक्ता की शिकायत पर की गई कार्रवाई । धर्मसिंहवा थाना अंतर्गत बिना लाइसेंस की चल रही थी नकली मिठाई की दुकान । नकली मिठाइयों का जखीरा बरामद । फूड इंस्पेक्टर राजमणि प्रजापति एवं थानाध्यक्ष की संयुक्त ऑपरेशन में बरामद किया गया नकली मिठाइयों का भंडार। मिठाइयों में दुर्गंध आ रही थी। संयुक्त ऑपरेशन टीम ने बरामद नकली खोया, पेठा, बर्फी, कलाकंद, मिल्क केक, आदि मिठाईयां बरामद की गई। बरामद की गई सभी मिठाईयां केमिकल से बनाई गई थी। सभी मिठाइयों में दुर्गंध आ रहा था। जो स्वास्थ्य के लिए बहुत ही हानिकारक है। मौके पर बरामद सभी मिठाइयों को फूड इंस्पेक्टर ने नष्ट करवाया। एवं आगे की कार्रवाई के लिए सैंपल गवर्नमेंट लैब में जांच के लिए भेजा जाएगा । अग्रिम कार्रवाई मिठाइयों के लैब टेस्ट रिपोर्ट आने के बाद खाद्य विभाग द्वारा की जाएगी।
Image
भोजपुरी गायक खेसारी लाल के कार्यक्रम में लोग हुए खून से लाल एवं हताहत एवं दर्जनों घायल
Image
*उमरिया प्रधानाचार्य तीन दिनों में प्रस्तुत करें शैक्षिक अहर्ता प्रमाण पत्र: डीआईओएस* -जिला विद्यालय निरीक्षक के पत्र से मचा हड़कम्प, जबाब देना हुआ मुश्किल ◼️◼️◼️ धनघटा(सन्तकबीरनगर) वरिष्ठता को दरकिनार कर कनिष्ठ व्यक्ति को पदभार दिए जाने को लेकर उमरिया बाजार इंटर कालेज ,उमरिया बाजार में प्रधानाचार्य पद का मामला गहराता जा रहा है। जिला विद्यालय निरीक्षक गिरीश कुमार सिंह ने प्रधानाचार्य को नोटिस भेजकर तीन दिनों के अंदर प्रधानाध्यापक की अहर्ता से सम्बंधित समस्त शैक्षिक प्रमाण पत्र प्रस्तुत करने का फरमान जारी किया है, जिससे विद्यालय में हड़कंप मच गया है। बतातें चले कि विद्यालय में उमरिया बाजार इंटर कालेज में 31 मार्च 2020 को प्रधानाचार्य जय चन्द्र यादव के सेवानिवृत्त से रिक्त पद पर नियमानुसार विद्यालय के वरिष्ठ व अहर्ताधारी शिक्षक लाल चन्द्र यादव को तदर्थ प्रधानाचार्य का पदभार दिया जाना चाहिए था, किन्तु प्रबन्धक ने तथ्य गोपन व मनमानी करके कनिष्ठ शिक्षक राधेश्याम यादव को पदभार दे दिया, जिसको मान्यता देते हुए जिला विद्यालय निरीक्षक ने हस्ताक्षर भी प्रमाणित कर दिया। मामले की शिकायत छपरा निवासी सतेंद्र कुमार यादव ने जिला विद्यालय निरीक्षक से किया था। शिकायती पत्र में साक्ष्य के साथ अवगत कराया गया है कि प्रधानाचार्य स्नातक प्रथम वर्ष व बॉम्बे आर्ट का प्रशिक्षण संस्थागत छात्र के रूप में एक ही शैक्षिक सत्र वर्ष 1983 में हासिल किया है, जो विभागीय नियमों के विपरीत है। वे इंटरमीडिएट एजुकेशन एक्ट के अनुसार प्रधानाचार्य पद की निर्धारित अहर्ता भी पूरी नही करते हैं, अर्थात बीएड प्रशिक्षित भी नही है। वे प्रबन्धक द्वारा जारी विद्यालय की जेष्ठता सूची, जिसे संयुक्त शिक्षा निदेशक ने भी प्रमाणिक माना है, के अनुसार भी वरिष्ठ नही है। शिक्षक संघ के वरिष्ठ पदाधिकारी व उमरिया इंटर कालेज के पूर्व प्रधानाचार्य पारसनाथ यादव, जय चन्द्र यादव ने भी कहा है कि प्रधानाचार्य का पद वरिष्ठ व योग्य शिक्षक को दिया जाना चाहिए, जिला विद्यालय निरीक्षक का निर्णय स्वागत योग्य हैं। *किसी भी शिक्षक के साथ अन्याय नही होने देंगे: संजय द्विवेदी* ◾◾◾ सन्तकबीरनगर। प्रकरण के वावत पूछने पर उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ के मण्डलीय मंत्री संजय द्विवेदी ने कहा कि नियमानुसार वरिष्ठ व अहर्ताधारी शिक्षक को ही प्रधानाचार्य का पदभार दिया जाना चाहिए था, किन्तु ऐसा किया नही गया। हम जनपद में किसी भी शिक्षक के साथ अन्याय नही होने देंगे। प्रधानाचार्य का पदभार उसी को मिलेगा, जिसका हक होगा।
Image
जिलाधिकारी दिव्या मित्तल ने जनपद में ईंट भट्टों के संचालन पर विनिमय शुल्क वसूल कराए जाने के संबंध में निदेशक, भूतत्व एवं खनिकर्म निदेशालय, उत्तर प्रदेश के द्वारा जारी निर्देशों का हवाला देते हुए बताया है कि जनपद के अधिकांश ईट भट्ठा मालिकों द्वारा विनिमय शुल्क जमा नहीं किए जाने से शासन को प्राप्त होने वाली राजस्व प्रभावित हुई है। उल्लेखनीय है कि ईट भट्ठा सत्र 2020-21 माह अक्टूबर से प्रारंभ होगा जिसके अंतर्गत जनपद में विभिन्न श्रेणी के साधारण भट्ठे तथा जिग जैग भट्ठे संचालित होंगे । जिलाधिकारी ने जनपद के समस्त ईट भट्ठा मालिकों के सूचनार्थ बताया है कि पूर्व की समस्त बकाया धनराशि जमा करने के उपरांत ही भट्ठा सत्र 2020-21 में ईंट भट्ठे के संचालन की अनुमति प्रदान की जाएगी । यदि कोई भट्ठा स्वामी द्वारा बिना पूर्व की समस्त बकाया धनराशि जमा किए बिना ईट भट्ठा संचालित करते हुए पाया गया तो उसके विरुद्ध नियमानुसार कार्यवाही की जाएगी।
Image
ब्लाक प्रमुख मंटू सिंह अपनी फॉर्च्यूनर गाड़ी से लाकडाउन में करवा रहा था अंग्रेजी शराब की अवैध तस्करी#जनपद देवरिया
Image