सेवाभाव # एएलएस एम्बुलेंस सेवा ने बचाई 1.83 लाख की जान*  जान बची तो लाखों पाए - डॉ. ए.के सिन्हा

*एएलएस एम्बुलेंस सेवा ने बचाई 1.83 लाख की जान* 


सेवाभाव


• सीएम योगी आदित्यनाथ ने की थी 14 अप्रैल 2017 को ए0एल0एस0 सेवा की शुरुआत
• कोरोना महामारी के समय वरदान साबित हो रही ए0एल0एस0 एम्बुलेंस सेवा


*संतकबीरनगर, 17 अप्रैल 2020 ।*


मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सरकार की महत्वाकांक्षी योजना ‘एडवांस लाइफ सपोर्ट (ए0एल0एस0) एम्बुलेंस सेवा’ ने उत्तर प्रदेश में अपने संचालन के 3 वर्ष पूरे कर लिए हैं। अपने इस सफर में एएलएस सेवा ने प्रदेश के 183484 से अधिक अतिगंभीर मरीजों की जान बचाई है। कोरोना महामारी के समय भी एएलएस सेवा अति गंभीर मरीजों की जान बचाने में वरदान साबित हो रही है।
एम्बुलेंस सेवा के जिला नोडल अधिकारी डाॅ ए के सिन्‍हा ने बताया कि जनपद में हमारे पास कुल 48 एम्बुलेंस हैं। इसमें से 4 एएलएस हैं। वहीं उत्तर प्रदेश में एम्बुलेंस सेवा प्रदाता संस्था जीवीके ईएमआरआई के सीनियर वाइस प्रेसीडेंट राजेश वाघमारे ने बताया कि प्रदेश में 108 एम्बुलेंस और 102 एम्बुलेंस सेवा पहले से चल रही थी। लेकिन बहुत बड़ी संख्या में मरीजों को गंभीर हालत में अस्पताल ले जाने या एक अस्पताल से दूसरे उच्च अस्पताल ले जाने के लिए वेंटीलेटर, डिफिब्रिलेटर व अन्य एडवांस जीवनरक्षक उपकरणों की आवश्यक्ता होती है। इसी को ध्यान में रखते हुए वर्तमान प्रदेश सरकार ने 14 अप्रैल 2017 को प्रदेश में इस महत्वाकांक्षी योजना की शुरूआत की थी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने स्वयं हरी झंडी दिखाकर 150 एम्बुलेंस के साथ ए0एल0एस0 सेवा का शुभारम्भ किया था। जिसके बाद जरूरत को देखते हुए 2019 में ए0एल0एस0 सेवा में 100 और एम्बुलेंस बढ़ाई गई। वर्तमान में इस सेवा के तहत प्रदेश में कुल 250 ए0एल0एस0 एम्बुलेंस संचालित की जा रही हैं़। हर जिले में न्यूनतम दो ए0एल0एस0 एम्बुलेंस हैं, जबकि अधिक आबादी वाले जिलों में इनकी संख्या अधिक भी है। इस सेवा का संचालन शुरू होने से 31 मार्च 2020 तक प्रदेश में लाभार्थियों का आंकड़ा 183484 से अधिक पहुंच चुका है। इनमें सड़क दुर्घटना (वाहन सम्बंधी) के 35109, हार्ट अटैक या कार्डियोवैस्क्युलर के 19264, सांस रोगों से सम्बंधित 21400, प्रसव से सम्बंधित 15651, बेहोशी के 5941, एक माह तक के बच्चों के 12910, मारपीट के 4876, आकस्मिक विषाक्तता के 4275 और अन्य आपातकालीन स्थितियों के 64058 मामले शामिल हैं। उन्होंने बताया कि जीवीके ईएमआरआई संस्था उत्तर प्रदेश में 102 एम्बुलेंस सेवा और 108 एम्बुलेंस सेवा का भी संचालन कर रही है।


*कोरोना से संबंधित 950 मरीजों को पहुंचाया अस्पताल*


कोरोना महामारी के समय ए0एल0एस0 एम्बुलेंस सेवा वरदान साबित हो रही है। राजेश वाघमारे के अनुसार गंभीर मरीज जो कोरोना से ग्रसित हैं या संदिग्ध मरीज हैं उनके लिए प्रदेश में अब तक 129 ए0एल0एस0 आरक्षित की गई हैं। जिनसे अब तक 950 से अधिक संदिग्ध या पाॅजिटिव मरीजों को अस्पताल ले जाया गया है।


*ये है सुविधा*


एएलएस (एडवान्स्ड लाइफ सपोर्ट) सेवा की एम्बुलेंस सभी जीवनरक्षक उपकरणों से सुसज्जित है। इमजरेंसी के समय आवश्यक दवाओं सहित वेंटीलेटर, डिफिब्रिलेटर सहित अन्य उपकरणों की भी सुविधा है। मरीज को कोई दिक्कत होने पर एम्बुलेंस में मौजूद ईएमटी मरीज को ऑक्सीजन देने के साथ ही काॅल सेंटर में बैठे डॉक्टर से संपर्क कर डॉक्टर के निर्देश पर मरीज को आवश्यक दवाएं भी देता है। गोल्डन आवर में सपोर्ट मिलने से बहुत से गंभीर रोगियों की जान बचाई जा रही है।


*इन मामलों में मिलती है सुविधा*


गंभीर सड़क दुर्घटना या हेड इंजरी, हार्ट अटैक, सांस लेने में तकलीफ, नवजात बच्चों से जुड़े गंभीर मामले, बर्न, जटिल प्रसव सहित अन्य प्रकार की किसी भी आपात कालीन समय में ए0एल0एस0 सेवा का लाभ ले सकते हैं। अतिगंभीर मरीजों को घर से अस्पताल ले जाने के लिए और एक अस्पताल से दूसरे उच्च श्रेणी के अस्पताल ले जाने के लिए ए0एल0एस0 एम्बुलेंस सेवा 24 घंटे उपलब्ध है। ए0एल0एस0 सुविधा पाने के लिए 108 सेवा में काल करें। आवश्यक्ता होने पर सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी। आवश्यक्ता पड़ने पर ए0एल0एस0 एम्बुलेंस मरीजों को दिल्ली एम्स, पीजीआई चंडीगढ़ भी मरीजों को ले जाती है।


Popular posts
*बिग ब्रेकिंग संतकबीरनगर* जनपद संतकबीरनगर के धर्मसिंहवा में नकली मिठाइयों का जखीरा बरामद । उपभोक्ता की शिकायत पर की गई कार्रवाई । धर्मसिंहवा थाना अंतर्गत बिना लाइसेंस की चल रही थी नकली मिठाई की दुकान । नकली मिठाइयों का जखीरा बरामद । फूड इंस्पेक्टर राजमणि प्रजापति एवं थानाध्यक्ष की संयुक्त ऑपरेशन में बरामद किया गया नकली मिठाइयों का भंडार। मिठाइयों में दुर्गंध आ रही थी। संयुक्त ऑपरेशन टीम ने बरामद नकली खोया, पेठा, बर्फी, कलाकंद, मिल्क केक, आदि मिठाईयां बरामद की गई। बरामद की गई सभी मिठाईयां केमिकल से बनाई गई थी। सभी मिठाइयों में दुर्गंध आ रहा था। जो स्वास्थ्य के लिए बहुत ही हानिकारक है। मौके पर बरामद सभी मिठाइयों को फूड इंस्पेक्टर ने नष्ट करवाया। एवं आगे की कार्रवाई के लिए सैंपल गवर्नमेंट लैब में जांच के लिए भेजा जाएगा । अग्रिम कार्रवाई मिठाइयों के लैब टेस्ट रिपोर्ट आने के बाद खाद्य विभाग द्वारा की जाएगी।
Image
भोजपुरी गायक खेसारी लाल के कार्यक्रम में लोग हुए खून से लाल एवं हताहत एवं दर्जनों घायल
Image
*उमरिया प्रधानाचार्य तीन दिनों में प्रस्तुत करें शैक्षिक अहर्ता प्रमाण पत्र: डीआईओएस* -जिला विद्यालय निरीक्षक के पत्र से मचा हड़कम्प, जबाब देना हुआ मुश्किल ◼️◼️◼️ धनघटा(सन्तकबीरनगर) वरिष्ठता को दरकिनार कर कनिष्ठ व्यक्ति को पदभार दिए जाने को लेकर उमरिया बाजार इंटर कालेज ,उमरिया बाजार में प्रधानाचार्य पद का मामला गहराता जा रहा है। जिला विद्यालय निरीक्षक गिरीश कुमार सिंह ने प्रधानाचार्य को नोटिस भेजकर तीन दिनों के अंदर प्रधानाध्यापक की अहर्ता से सम्बंधित समस्त शैक्षिक प्रमाण पत्र प्रस्तुत करने का फरमान जारी किया है, जिससे विद्यालय में हड़कंप मच गया है। बतातें चले कि विद्यालय में उमरिया बाजार इंटर कालेज में 31 मार्च 2020 को प्रधानाचार्य जय चन्द्र यादव के सेवानिवृत्त से रिक्त पद पर नियमानुसार विद्यालय के वरिष्ठ व अहर्ताधारी शिक्षक लाल चन्द्र यादव को तदर्थ प्रधानाचार्य का पदभार दिया जाना चाहिए था, किन्तु प्रबन्धक ने तथ्य गोपन व मनमानी करके कनिष्ठ शिक्षक राधेश्याम यादव को पदभार दे दिया, जिसको मान्यता देते हुए जिला विद्यालय निरीक्षक ने हस्ताक्षर भी प्रमाणित कर दिया। मामले की शिकायत छपरा निवासी सतेंद्र कुमार यादव ने जिला विद्यालय निरीक्षक से किया था। शिकायती पत्र में साक्ष्य के साथ अवगत कराया गया है कि प्रधानाचार्य स्नातक प्रथम वर्ष व बॉम्बे आर्ट का प्रशिक्षण संस्थागत छात्र के रूप में एक ही शैक्षिक सत्र वर्ष 1983 में हासिल किया है, जो विभागीय नियमों के विपरीत है। वे इंटरमीडिएट एजुकेशन एक्ट के अनुसार प्रधानाचार्य पद की निर्धारित अहर्ता भी पूरी नही करते हैं, अर्थात बीएड प्रशिक्षित भी नही है। वे प्रबन्धक द्वारा जारी विद्यालय की जेष्ठता सूची, जिसे संयुक्त शिक्षा निदेशक ने भी प्रमाणिक माना है, के अनुसार भी वरिष्ठ नही है। शिक्षक संघ के वरिष्ठ पदाधिकारी व उमरिया इंटर कालेज के पूर्व प्रधानाचार्य पारसनाथ यादव, जय चन्द्र यादव ने भी कहा है कि प्रधानाचार्य का पद वरिष्ठ व योग्य शिक्षक को दिया जाना चाहिए, जिला विद्यालय निरीक्षक का निर्णय स्वागत योग्य हैं। *किसी भी शिक्षक के साथ अन्याय नही होने देंगे: संजय द्विवेदी* ◾◾◾ सन्तकबीरनगर। प्रकरण के वावत पूछने पर उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ के मण्डलीय मंत्री संजय द्विवेदी ने कहा कि नियमानुसार वरिष्ठ व अहर्ताधारी शिक्षक को ही प्रधानाचार्य का पदभार दिया जाना चाहिए था, किन्तु ऐसा किया नही गया। हम जनपद में किसी भी शिक्षक के साथ अन्याय नही होने देंगे। प्रधानाचार्य का पदभार उसी को मिलेगा, जिसका हक होगा।
Image
जिलाधिकारी दिव्या मित्तल ने जनपद में ईंट भट्टों के संचालन पर विनिमय शुल्क वसूल कराए जाने के संबंध में निदेशक, भूतत्व एवं खनिकर्म निदेशालय, उत्तर प्रदेश के द्वारा जारी निर्देशों का हवाला देते हुए बताया है कि जनपद के अधिकांश ईट भट्ठा मालिकों द्वारा विनिमय शुल्क जमा नहीं किए जाने से शासन को प्राप्त होने वाली राजस्व प्रभावित हुई है। उल्लेखनीय है कि ईट भट्ठा सत्र 2020-21 माह अक्टूबर से प्रारंभ होगा जिसके अंतर्गत जनपद में विभिन्न श्रेणी के साधारण भट्ठे तथा जिग जैग भट्ठे संचालित होंगे । जिलाधिकारी ने जनपद के समस्त ईट भट्ठा मालिकों के सूचनार्थ बताया है कि पूर्व की समस्त बकाया धनराशि जमा करने के उपरांत ही भट्ठा सत्र 2020-21 में ईंट भट्ठे के संचालन की अनुमति प्रदान की जाएगी । यदि कोई भट्ठा स्वामी द्वारा बिना पूर्व की समस्त बकाया धनराशि जमा किए बिना ईट भट्ठा संचालित करते हुए पाया गया तो उसके विरुद्ध नियमानुसार कार्यवाही की जाएगी।
Image
ब्लाक प्रमुख मंटू सिंह अपनी फॉर्च्यूनर गाड़ी से लाकडाउन में करवा रहा था अंग्रेजी शराब की अवैध तस्करी#जनपद देवरिया
Image